Am in a different race

Standard
Advertisements

For kanha

Standard

मैं ना जानु सावरे तू कौन
तेरी बंसी सुन भइ में मौन

तेरी वाणी तेरे गृंथ
ना मैं जानु तेरे पंथ

पड़ गया जो तेरा रंग
नगर घूमती बनु मंगन

मैं ना जानु राधा और मीरा
जानू मगर विरह की पिणा

जो श्याम ना मिले उस द्वार
क्या करू भवसागर पार

यह देह रूपी संसार
निरर्थक जिवन अपार

गिरधारी गंगाधर ओ श्याम सावरे
मेरी तृष्णा को अपनी मुरली से हरले

Krishna poem

Standard

पुछे सखियाँ मेंरी
वह कौन तेरा है
मैं सकूचाउ बोलु
यह श्याम मेरा है

पुछे सखियाँ मेंरी
यह बंसी किसकी है
मैं नयन बंदकर बोलु
धुन इसकी कणॅ में बस्ती है

पुछे सखियाँ मेंरी
यह राधा किसकी है
मैं ईर्षालु होकर कहूं
यह प्रियसी उसकी है

पुछे सखियाँ मेंरी
यह मोर पंख किसका है
मैं लाजभरे मुख से बोलु
रुप यह चित मोह लेता है

पुछे सखियाँ मेंरी
यह श्याम श्याम क्यूँ है
अहंकार से बोलु मैं
वो सब दुख जो हर लेता है

Difference

Standard

                    
              What is that makes you
              different from me ?      

              Its just that am indifferent
              towards any differences.

Shilpi