Tag Archives: god

Is it the township or the people ?

Standard
Is it the township or the people ?

After few months of joy we started feeling very lonely. Nobody visits us, nor we are invited anywhere. There are no weddings to attend and even no parties. In clubs and malls there still remains this feeling of being alone even after seeing so many faces eating under the same roof but over different tables. We hardly know anyone, talking is out of context altogether.

There are highs and lows of living in a township, I never thought I would be here after living in suburban colony, it seemed as a new light but this light was dim and dull unlike the local colonies that always had a bright spark about them.

Not to mention the people; here in township are not very warm and not very gentle, though I cannot conclude much about this, since I haven’t talked to any in particular but every person carry an aura around them, and I tend to sense that along with the vibrations when they walk around me. I hardly find anyone approachable enough to start a conversation and the once that may be, my bad luck; I haven’t had their vibrations felt as yet.

It feels very lonely when you’re on your own even when you have a family you still feel out of place, because living in your hometown is much different than living in a township that too miles away. There are hardly any relatives and friends around whereas in your hometown every moment becomes an occasion on their arrival; not to forget the festivals get their own charm when you don’t have to celebrate alone.

Today living in a township is embellished with a taste of monotony and loneliness. One barely finds time for another. If at all there are some connections in between people; then there’s always some unequal distance that cannot be travelled by their inner Ego’s because everyone here, has an identity that’s not reflected by their inner souls but more by the position and status they conduct in society.

The township plays a crucial role in the development of one’s psychological wellbeing where slowly and steadily the process of desensitization takes place. What happens behind the closed doors remains behind the closed doors, we do not want to get involved since we don’t know them, is the rule of the thumb and we go by that.

We tend to get ourselves busy and the feeling that we are not connected embeds deep into us, we connote this as a suitable technique for a hassle free and stress free survival in times like today where helping has become a hassle and being connected means putting up with another in every situation they face. This is the brutal reality that we counter everyday and realising and knowing it won’t make any difference, and many factors have contributed in its growth.

Maybe it’s not the township, it’s the people who have changed or this has been like this since eons and I am living it now.

The Good News Syndrome

Standard

Oh Gosh am so tired of being asked this question so many times, its been only 6 month or so since i got married and there isn’t any one being who hasn’t asked me the million dollar question, Good News kab suna rahi hai, or good news kab degi ? ( when will you tell us about the good news or when are you going to give good news ) .

Am literally sick of the questions that make me feel that am guilty of not planning a baby or that we were using protection or just not wanting to have it right now, which is seriously not the case.

Why do people have to ask such things i can expect it from my relatives or family but why should my friends ask this, this totally unexpected from them .

Am always in favor of responding to people in a very polite and genuine way that we are ready to have a baby whenever it would happen by god’s will, when it has to happen, its not in my hands actually they must know.  

Then why is everybody after me, i can really not understand,  its like am the one who is responsible for not giving them the good news because they want to hear it .Funny Pregnancy Ecard: Its been just some Months since ive been married not some years. People please stop 'Expecting' on my Behalf !

More over if this doesn’t suffice, they ask me all sorts of questions that you must plan , have ,and consult gynecologist and so on , yes yes we will do that only if we see that, we have crossed our time or that its been 2 years of our marriage and still we haven’t have a baby , our marriage just got into 7th month and people are drooling over me like flies and it started in 2nd month only !

I don’t know why is everyone so worried even my good old “Educated” , “Modern” friends ask me this every time they call , and its making me become more patient, dealing with their queries, i keep giving them all sorts of answers thinking that one day they might stop asking , but no they are still going on pretty smooth.

I am just married and enjoying every bit of this moment and am even ready to get pregnant and be a mother, and am all prepared and geared up for whatever has to come to my life , But Let It Come , Let it Happen All by itself , why force it or pressurize it to happen.

This is the problem with our society even before you are born , problems exist in form of whether you arrive late or early and then when you arrive, problems related to gender, month, time and date in which you were born, after that if you are a boy what will you become engineer , doctor etc,

And god forbid if you are born a girl , your life, education, society, marriage, dowry, rape , everything related to your existence becomes the bone of contention for whole life .

Anyhow am not going away from my topic. I cannot understand why there’s so much fuss about the “good news”, its like people who ask me this, their life depends on my having a baby as if some thing good will only occur to them if i have a baby, and all this time they are expecting on my behalf !!!

When will they understand and let me be with my present, and let god decide everything rather than playing little God’s themselves. A baby is blessing of god who brings happiness that’s there to stay forever and that only happens when your time has come and when god decides for it to happen.

Mata Ke Nau Roop

Standard

Day 8 Maa Durga

ThoughtSummary

 
देवी दुर्गा के नौ रूपों में महागौरी आठवीं शक्ति स्वरूपा हैं. दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की पूजा अर्चना की जाती है.दुर्गा सप्तशती में शुभ निशुम्भ से पराजित होकर गंगा के तट पर जिस देवी की प्रार्थना देवतागण कर रहे थे वह महागौरी हैं. देवी गौरी के अंश से ही कौशिकी का जन्म हुआ जिसने शुम्भ निशुम्भ के प्रकोप से देवताओं को मुक्त कराया . यह देवी गौरी शिव की पत्नी हैं यही शिवा और शाम्भवी के नाम से भी पूजित होती हैं.

देवी पार्वती रूप में इन्होंने भगवान शिव को पति-रूप में प्राप्त करने के लिए कठोर तपस्या की थी, एक बार भगवान भोलेनाथ ने पार्वती जी को देखकर कुछ कह देते हैं. जिससे देवी के मन का आहत होता है और पार्वती जी तपस्या में लीन हो जाती हैं. 

इस प्रकार वषों तक कठोर तपस्या करने पर जब पार्वती नहीं आती तो पार्वती को खोजते हुए भगवान…

View original post 451 more words

Mata Ke Nau Roop

Standard

Day 7 Maa Kalratri

ThoughtSummary

 

मां कालरात्रि ::

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

आज नवरात्र का सातवां दिन है और सातवें दिन पूजा होती है मां कालरात्रि की। कालरात्रि मां  ,जो भी उनकी पूजा करता है उसको हमेशा फल प्राप्त होता है, तेज बढ़ता है, दुश्मनों का नाश होता है, पापों से मुक्ति मिलती है और साथ ही दूर भागने लगते हैं भय।
लौकिक स्वरुप में माता के शरीर का रंग अमावस्या रात की तरह एकदम काला है मां कालरात्रि के सिर के बाल बिखरे हुए हैं। कालरात्रि देवी के तीन नेत्र और चार भुजाएं हैं। ब्रह्मांड के समान गोल नेत्रों से चमकीली किरणें फूटती रहती हैं। मां कालरात्रि जब सांस लेती हैं या सांस छोड़ती हैं, तो उनकी नासिका से आग की भयानक लपटें निकलती रहती हैं। लेकिन जो भी उनकी पूजा करता है वो जिंदगी में कभी भी विफल नहीं होता।मां का सातवां रूप बड़ी ही…

View original post 389 more words

Mata Ke Nau Roop

Standard

Day 6 Maa Katyani

ThoughtSummary

माँ कात्यानी::

आज का परम पवन दिन श्री माँ कात्यानी की उपासना के नाम से जाना जाता है पूर्व काल में माँ कत नमक ऋषि के पुत्र कात्यायन की अपार भक्ति से प्रसन्न हो कर प्रगट हुई इसी कारन श्री माँ को कत्यानी के नाम से जाना गया, महिषासुर मर्दिनी माँ कात्यानी सदेव ही दीन हीन व् सत्य निष्ठ प्राणियों की रक्षा करती है श्री माँ परम फल दायनी व् मोक्ष सुख कारिणी है.
आज के दिन भक्त श्री माँ की उपासना कर मन की परिपूर्ण गति को प्राप्त करते है जो जीव के कल्याण की परिपूर्ण सीमा है. श्री माँ कात्यानी के श्री चरणों में पुनः पुनः नमन

या देवी सर्वभूतेषु माँ कात्यानी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

View original post

Mata Ke Nau Roop

Standard

Day 5. Maa Skandmata

ThoughtSummary

पांचवा स्वरूप स्कन्दमाता::शेर पर सवार होकर माता दुर्गा अपने पांचवें स्वरुप स्कन्दमाता के रुप में भक्तजनों के कल्याण के लिए सदैव तत्पर रहती हैं. कल्याणकारी शक्ति की अधिष्ठात्री देवी स्कन्दमाता की नवरात्र में पूजा अर्चना करने का विशेष विधान है. देवी भगवती का यह स्वरूप देवताओं की सेना के मुखिया स्कन्द कुमार (कार्तिकेय) की माता का स्वरूप है, इसलिए उन्हें स्कन्दमाता कहा जाता है.स्कन्दमाता शेर की सवारी पर विराजमान हैं और उनकी चार भुजाएं हैं.

इन चतुर्भुजी और त्रिनेत्री माता ने अपने दो हाथों में कमलदल लिए हैं और एक हाथ से अपनी गोद में
ब्रह्मस्वरूप स्कन्द कुमार को थामा हुआ है. चौथा हाथ आशीर्वाद की मुद्रा में है.

इनका वर्ण पूर्णतः श्वेत है और ये कमल के आसन पर विराजमान रहती हैं, जिस कारण माता को पद्मासना देवी भी कहा जाता है.

शास्त्रों के अनुसारा माता स्कन्दमाता की पूजा करने से सारी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है और उसे…

View original post 115 more words

Mata Ke Nau Roop

Standard

Day 4. Maa Kushmanda

ThoughtSummary

Sorry friends for posting late today, as we had A special Kirtan at home on the occasion of Navratri where the ladies from our  neighborhood sang mata rani’s bhajans, lankuriyas, and arti geets. it was a fantastic, aesthetic, divine spiritual experience and fun filled with dance and masti. will post some pics of that shortly …

Jai Mata Di

 

वैसे तो मां दुर्गा का हर रूप बहुत सरस होता है। लेकिन मां का कूष्माण्डा रूप बहुत मोहक और मधुर है। नवरात्र के चौथे दिन मां के इस रूप की पूजा होती है। कहते हैं नवरात्र के चौथे दिन साधक का मन ‘अदाहत’ चक्र में अवस्थित होता है। अतः इस दिन उसे अत्यंत पवित्र और अचंचल मन से कूष्माण्डा देवी के स्वरूप को ध्यान में रखकर पूजा करनी चाहिए।

“कुत्सित: कूष्मा कूष्मा-त्रिविधतापयुत: संसार:, स अण्डे मांसपेश्यामुदररूपायां यस्या: सा कूष्मांडा”

माँ कुष्मांडा जिनका मुखमंड सैकड़ों सूर्य की प्रभा से प्रदिप्त है उस समय प्रकट हुई उनके…

View original post 130 more words

Mata Ke Nau Roop

Standard

Day 3 Maa Chandrghanta

ThoughtSummary

आज आदि-शक्ति दुर्गा के तृतीय स्वरूप माँ चंद्रघंटा की पूजा होती है.माँ का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है.इनके मस्तक में घंटे का आकार का अर्धचंद्र है इसलिए इन्हें चंद्रघंटा देवी कहा जाता है. इनके शरीर का रंग सोने के समान चमकीला है. इनके दस हाथ हैं. इनके दसों हाथों में खड्ग आदि शस्त्र तथा बाण आदि अस्त्र विभूषित हैं. इनका वाहन सिंह है. इनकी मुद्रा युद्ध के लिए उद्यत रहने की होती है.

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

पिण्डज प्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते महयं चन्द्रघण्टेति विश्रुता।। 

देवी चन्द्रघण्टा भक्त को सभी प्रकार की बाधाओं एवं संकटों से उबारने वाली हैं. इस दिन का दुर्गा पूजा में विशेष महत्व बताया गया है तथा इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन किया जाता है. माँ चंद्रघंटा की कृपा से अलौकिक एवं दिव्य सुगंधित वस्तुओं के दर्शन तथा अनुभव होते हैं, इस दिन साधक…

View original post 119 more words

Mata ke Nau Roop

Standard

Day 2 Maa Brahmacharani

ThoughtSummary

नवरात्र के दूसरे दिन नवशक्ति के दुसरे स्वरुप मां ब्रह्मचारिणी का है:

ब्रह्म का अर्थ हैं तप। मां ब्रह्मचारिणी तप का आचरण करने वाली भगवती हैं इसी कारण उन्हें ब्रह्मचारिणी कहा गया। मां के इस रूप की आराधना से मनचाहे फल की प्राप्ति होती है। तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार व संयम जैसे गुणों वृद्धि होती है।

मां ब्रह्मचारिणी श्वेत वस्त्र पहने उनके दाहिने हाथ में अष्टदल कि जप माला एवं बायें हाथ में कमंडल सुशोभित रहता हैं।शक्ति स्वरुपा देवी ने भगवान शिवको प्राप्त करने के लिए 1000 साल तक सिर्फ फल खाकर तपस्या रत रहीं और 3000 साल तक शिव कि तपस्या सिर्फ पेड़ों से गिरी पत्तियां खाकर कि, उनकी इसी कठिन तपस्या के कारण उन्हें ब्रह्मचारिणी नाम से जाना गया।

इस देवी की कथा का सार यह है की जीवन के कठिन परिस्थितियों में भी विचलित नहीं होना चाहिए माँ ब्रह्मचारिणी देवी की कृपा से शर्व शिधि की प्राप्ति…

View original post 5 more words

Happy Navratri Mata Ke Nau Roop

Standard

Happy Navratri to all my dear Friends . Lets Welcome Maa Durga in all her Nau Roop (nine avatars ) with all our heart and devotion to seek her blessings.

ThoughtSummary

May This Navratri be as bright as ever.
May this Navratri bring joy, health and wealth to you.

आप सभी को नवरात्री के शुभ अवसर पर हार्दिक बधाई. आज मां दुर्गा शक्ति की उपासना का प्रथम दिन है ,माँ दुर्गा पहले स्वरूप में ‘शैलपुत्री’ के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। आज के दिन शैलराज हिमालय की कन्या माँ शैलपुत्री जी का पूजन होता है, माँ शैलपुत्री दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएँ हाथ में कमल का पुष्प लिए अपने वाहन वृषभ पर विराजमान होतीं हैं. नवरात्र के इस प्रथम दिन की उपासना में साधक अपने मन को ‘मूलाधार’ चक्र में स्थित करते हैं, शैलपुत्री का पूजन करने से ‘मूलाधार चक्र’ जागृत होता है और यहीं से योग साधना आरंभ होती है जिससे अनेक प्रकार की शक्तियां प्राप्त होती हैं।
अपने पूर्व जन्म में ये प्रजापति दक्ष की कन्या के रूप में उत्पन्न हुई…

View original post 46 more words