Tag Archives: mystique

Love For He’s Her

Standard

तुम जी सकोगे कैसे, किसी को दुःख देकर ,

 

की तुम जी सकोगे कैसे, किसी को दुःख देकर

और मन में यह राज़ कैसे जीयोगे साथ लेकर

 

की ज़िन्दगी युही नहीं, बीत जाती है बिताने भर से,

अफ़साने छुप नहीं जाते, ज़माने से नज़रे चुरालेने में

 

अब तो गैरो की बाँहों में भी ले लेते होगे तुम पनहा

जला लेते होगे शाम ऐ महफ़िल में, अपनी कोई नयी शमा

 

अफ़सोस कुछ भी नहीं तेरे जीने के ढंग से मुझे

पर जलन है की, दर्द लेके भी, क्यूँ याद है तू मुझे

 

ज़िन्दगी में बस और कुछ नहीं चाहत तुझको लेकर

बस परवाह है उस शमा की जो होगी तेरी सेज पर

 

फिकर है उस ओज की जो बुझती होगी हर लम्हा

दुःख देकर जीए तू, क्यूँ होता नहीं खुद फ़ना

 

Sher o Shayari

Standard

अर्ज़ है ..

 

लबो की यह तमन्ना है ,

की लफ्जों में नहीं रुकना,

यह चाहत है लबो की अब

इन्हें युही नहीं थमना

 

की यह हकीक़त है सुनने में

लगेगा  तुमको अफसाना

मोहब्बत में यूँ ठहरे है

लगे हर तरफ विराना

 

क्यूँ चाहत में खोये रहते

समझ में यह नहीं आता’

क्यूँ हर बेरंग सी  मेहफिल में

सजने  लगे  कोई तराना

 

हमे महसूस करना है

यह मन क्यूँ बहकता है

की हर साज़ में यह दिल

जाने क्यूँ महकता है
यह मोहब्बत है मोहब्बत है

या कोई और फ़साना

बिना सोचे या  समझे ही

नहीं बनता कोई तराना