Mata Ke Nau Roop

Standard

माँ कात्यानी::

आज का परम पवन दिन श्री माँ कात्यानी की उपासना के नाम से जाना जाता है पूर्व काल में माँ कत नमक ऋषि के पुत्र कात्यायन की अपार भक्ति से प्रसन्न हो कर प्रगट हुई इसी कारन श्री माँ को कत्यानी के नाम से जाना गया, महिषासुर मर्दिनी माँ कात्यानी सदेव ही दीन हीन व् सत्य निष्ठ प्राणियों की रक्षा करती है श्री माँ परम फल दायनी व् मोक्ष सुख कारिणी है.
आज के दिन भक्त श्री माँ की उपासना कर मन की परिपूर्ण गति को प्राप्त करते है जो जीव के कल्याण की परिपूर्ण सीमा है. श्री माँ कात्यानी के श्री चरणों में पुनः पुनः नमन

या देवी सर्वभूतेषु माँ कात्यानी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

Advertisements

11 responses »

  1. he maiyya, he kalyani,

    sabhi ka shubh ho aur sab kushal rahe, aise hamari prarthana

    aur tu hi karti hai sab kuch he kalyani

    Mujhe bahut accha lagta hai aap ka blog

    kitni sundar hai meri behena

    sada khush rehna meri behana

    ek bhai ki dua hai

  2. गों हाथों में ज़ुम्बिश नहीं, आँखों में तो दम है

    रहने दो अभी सागरों-मीना मेरे आगे

    ग़ालिब

    kya hua agar haath hilne na paaye
    haath uthne ke kaabil na ho

    aankh mein to dum hai

    rehne do sharaab mere samne aankh se pee lunga

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s