Love Shayari

Standard

लबो की यह तमन्ना है ,

की लफ्जों में नहीं रुकना,

यह चाहत है लबो की अब

इन्हें युही नहीं थमना

की यह हकीक़त है सुनने में

लगेगा  तुमको अफसाना

मोहब्बत में यूँ ठहरे है

लगे हर तरफ, विराना

यूँ चाहत में उनकी खोये

की हर महफ़िल से हुए रवाना ‘

लगे हर बेरंग सी मेहफिल में

सजने लगे कोई तराना

हमे महसूस करना है

यह मन, क्यूँ बहकता है

की हर साज़ में यह दिल

जाने क्यूँ महकता है

यह मोहब्बत है इबादत है

या कोई और अफ़साना

बिना सोचे या  समझे ही

नहीं बनता कोई तराना

Advertisements

35 responses »

  1. Pingback: A Bouquet of Awards – 10 Nominations | Ajaytao 2010

      • Its pretty hard to translate the true essence of the poem but still i tried out as some words are from urdu language that are difficult in meaning.
        Here it is..
        The lips desire that they should not remain restricted in just words they desire for more to feel love without stopping.

        All these feelings are for real and might seem to you like a story but i tell you am struck in love and fell lonely in gatherings as my love is not there.

        I am so much lost in his love that am asked to leave or i leave meetings and social gathering and if am in such colorless events then also i cant stop musing and making my own songs of love.

        I want to know and feel more in love, to seek answers to my questions that why my soul wanders so much ,why my heart sings to every tune i hear and begin to search for him and why i feel the fragrance of love everywhere.

        I know this is love and love is worship and not some romantic tale, and the answer to all questions lies in the poem which is based on thinking and understanding of love itself.

        Thank you so much for your interest and desire to know more.
        Regards

      • That`s beautiful. I am sorry I couldn`t read it in the original, as a lot of deeper meanings are always lost in translation, but the English version at least is such a beautiful way of thinking of love as something more elemental than mere fascination. Thank you for this.

      • Yes the deeper meanings are lost in the translation but still id Thank you so much for you really appreciated that too.

        Tk cre & Regards

  2. तेरे जमाल की तस्वीर खीच के रख दू लेकिन

    आँख में ज़बा नहीं, ज़बा में आँख नहीं

    यही से होता है, राज़े इश्के मोहब्बत फ़ाश

    नज़रे ज़बा नहीं पर बेज़बा नहीं

    Ek tohafa hamari taraf se chot behana ke liye

  3. Aaj ka tohafa

    क़तील-ए-हवस थे तो आतश नफ़स थे
    मोहब्बत हुई बेज़ुबा हो गए हम

    Katil = Killer
    Aatash = Fire
    Nafas = Swas, breathe

      • mere pass such mein pura khazaana hai

        aap dekhti jao mein aap ko kya kay bhejta hoo

        kaisi ho aap nahi tum jyada pyaara lagta hai nahi

        aaj ka tohfa

        इक लफ्जे महब्बत का अदना सा फ़साना है
        सिमटे तो दिले आशिक़ है फैले तो ज़माना है

        जिगर मुरादाबादी

      • yeh Jigar ka sher hai bhaiyya

        aashiqi ka sikudna
        warna prem agar faile to pura zamaana hai

      • इस पार, उस पार

        इस पार, प्रिये मधु है तुम हो,
        उस पार न जाने क्या होगा!

        यह चाँद उदित होकर नभ में
        कुछ ताप मिटाता जीवन का,
        लहरालहरा यह शाखाएँ
        कुछ शोक भुला देती मन का,
        कल मुर्झानेवाली कलियाँ
        हँसकर कहती हैं मगन रहो,
        बुलबुल तरु की फुनगी पर से
        संदेश सुनाती यौवन का,
        तुम देकर मदिरा के प्याले
        मेरा मन बहला देती हो,
        उस पार मुझे बहलाने का
        उपचार न जाने क्या होगा!
        इस पार, प्रिये मधु है तुम हो,
        उस पार न जाने क्या होगा!

        इस पार, प्रिये मधु है तुम हो,
        उस पार न जाने क्या होगा!

        Dr Harvanshrai Bacchan

      • thik hai woh bhi bhejunga

        ye is par us par ka aur ek antara

        दृग देख जहाँ तक पाते हैं,
        तम का सागर लहराता है,
        फिर भी उस पार खड़ा कोई
        हम सब को खींच बुलाता है;
        मैं आज चला तुम आओगी
        कल, परसों सब संगीसाथी,
        दुनिया रोती-धोती रहती,
        जिसको जाना है, जाता है;
        मेरा तो होता मन डगडग,
        तट पर ही के हलकोरों से!
        जब मैं एकाकी पहुँचूँगा
        मँझधार, न जाने क्या होगा!
        इस पार, प्रिये मधु है तुम हो,
        उस पार न जाने क्या होगा!

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s